डेंगू बुखार के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में जाने पूरी जानकारी

Dengue symptoms and preventions

Dengue डेंगू
डेंगू बुखार एक बहुत ही खतरनाक बुखार में से एक है। ये गर्मी के मौसम में डेंगू मच्छर के काटने से होता है। ये एक ऐसा बुखार है जिससे हर साल लाखों लोग इसका शिकार होते है। पहले इस मच्छर के काटने से कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन इसके लक्षण धीरे - धीरे शरीर में दिखाई पड़ते है। और तब ये तेज़ी से फैलता है। और वैसे भी ज्यादा मच्छरों वाले इलाके में डेंगू के मच्छर की संख्या ज्यादा मात्रा में पाई जाती है। वहां पर खास सावधानी बरतनी चाहिए। 


Dengue symptoms and preventions

dengue fever symptoms
डेंगू बुखार के लक्षण
       इस बुखार के कई लक्षण हो सकते है जैसे तेज़ बुखार, शरीर में तेज दर्द, जोड़ों में दर्द, रक्तस्राव, खांसी, ठंड लगना, भूख़ ना लगना, उल्टी, मतली, कमज़ोरी, आंखो के पिछले हिस्से में दर्द, मांसपेशियों में दर्द आदि इसके लक्षण है। अगर इस तरह के कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेकर इलाज़ करवाएं। ये लक्षण नजरअंदाज करने से और बिकराल रूप ले सकते है।


. तेज बुखार
         कभी - कभी शरीर में तेज़ बुखार हो जाता है।जो की नॉर्मल दवाई खाने से ठीक नहीं होता है। और धीरे - धीरे ये बढ़ता जाता है।तो जाहिर है की ये डेंगू के लक्षण है। तुरंत अच्छे चिकित्सक से इलाज़ करवाएं।


. शरीर में तेज़ दर्द
           आपने कभी देखा होगा की कभी - कभी शरीर में बुखार के साथ तेज़ दर्द होता है। जिससे शरीर की सभी मांसपेशियों में लगता है जैसे कोई करंट लगा रहा है। इस तरह के लक्षण दिखाई देने पर डेंगू के लक्षण हो सकते हैं। ऐसा होने पर तुरंत दवाई करवाएं।


बुखार के प्रकार और लक्षण
. जोड़ों में दर्द
            जोड़ों में दर्द होना एक स्वाभाविक बात है। कभी - कभी ज्यादा मेहनत करने से दर्द होने लगता है। लेकिन डेंगू के दर्द को मेहनत जैसा दर्द समझ कर नजरअंदाज कर देते है। ऐसा होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। ये लक्षण डेंगू के हो सकते है।


. रक्तस्राव
         रक्तस्राव भी इस बुखार के लक्षण है। रक्तस्राव बुखार के समय आंख, नाक या मुंह से हो सकते है। इसीलिए जब भी रक्तस्राव हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। और कभी भी नजरअंदाज करने की कोशिश ना करें । नहीं तो ये घातक साबित हो सकता है।


.खांसी
     इस बुखार से खांसी होने की संभावना बढ़ जाती है। खांसी के साथ बुखार भी। जब भी ऐसे लक्षण दिखे तो तुरंत जांच करवाएं। और अगर ऐसा कुछ निकले तो इसका बेहतर इलाज करवाएं।


. ठंड लगना
         डेंगू होने से बुखार के साथ - साथ तेज़ ठंड भी लगता है। अगर ऐसा कोई लक्षण आपको दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से जांच करवाए। और इसका उचित इलाज करवाएं।


. भूख ना लगना
     डेंगू होने से बुखार के साथ भूख भी नहीं लगता है।जब कभी खाना खाएंगे तो कड़वा लगने लगता है। इससे शरीर कमज़ोर हो जाता है ये भी डेंगू के लक्षण है।


. उल्टी
     डेंगू बुखार होने पर उल्टी होने की संभावना बढ़ जाती है। बार - बार उल्टी होने जैसा महसूस होता है। और उल्टी भी होती रहती है। अगर बुखार होने के साथ उल्टी भी हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर जांच करवाए और तब इलाज करवाएं।


.मतली
       डेंगू बुखार होने पर बार - बार मतली होने लगती है। और मुंह में पानी आता रहता है। और अजीब सा महसूस होता है। अगर कोई इस तरह की दिक्कत हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बीमारी से छुटकारा पाने का उपाय। बीमारी से छुटकारा पाने के लिए उपाय


. आंखों के पिछले हिस्से में दर्द
          डेंगू बुखार होने पर बुखार के साथ - साथ शरीर के कई अंगों में दर्द होता है। लेकिन आंखों के पिछले हिस्से में भी दर्द होता रहता है। जिससे आंखों पर असर पड़ सकता है। इसीलिए ऐसे लक्षण हो तो तुरंत इलाज़ करवाना ज़रूरी है। नहीं तो आंखों में गंभीर समस्या पैदा हो सकती है।


. मांसपेशियों में दर्द
        डेंगू बुखार का प्रभाव शरीर के हर हिस्से में होता है। इसके प्रभाव से मांसपेशियों में दर्द बढ़ जाता है। जिससे की उठने - बैठने और चलने में बड़ी मशक्कत होती है। अगर ऐसा हो तो इलाज़ करवाना बहुत जरूरी होता है।


.कमज़ोरी
      अधिकतर बीमारी में शारीरिक बीमारी का होना आम बात है। लेकिन डेंगू बुखार में कमजोरी ज्यादा मात्रा में बढ़ जाती है। जिससे चलने और उठने - बैठने में बड़ी दिक्कत होती है। दूसरे का सहारा लेना पड़ता है। इसीलिए डेंगू बुखार होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर इलाज करवाएं ताकि डेंगू हमारे शरीर पर हाबी ना हो सके।


dengue fever treatment
डेंगू बुखार का इलाज
        डेंगू बुखार का इलाज घरेलू भी ही सकता है। अगर साधारण बुखार है। तो मरीज़ को डॉक्टर के सलाहनुसार ( पैरासिटामाल) दे सकते है। और सिर पर पट्टी रखकर बुखार कम किया जा सकता है। लेकिन अगर इसके कोई लक्षण दिखाई दे तो तुरंत जांच करवाए। जांच में खून का जांच किया जाता है। और फ़िर उसका इलाज़ करवाएं। डेंगू बुखार होने पर खून में उपस्थित प्लेटलेट घट जाता है। जिससे शरीर में हर तरह कि समस्या उत्पन्न होती है। किसी अच्छे स्वास्थ्य चिकित्सक से संपर्क कर इलाज करवाएं ताकि बुखार से राहत मिल सके।


Causes of Dengue Fever
डेंगू बुखार के कारण
       डेंगू बुखार होने का मुख्य कारण मच्छर के काटने से होता है। किसी डेंगू बुखार से पीड़ित रोगी को मच्छर काटता है और वही मच्छर किसी दूसरे व्यक्ति को काटता है जिससे बुखार के वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में पहुंच जाता है।


Dengue fever prevention
डेंगू बुखार से बचाव
     डेंगू बुखार से बचाव करना बहुत ही जरूरी है। इसके बचाव के लिए हमेशा सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करना चाहिए ताकि मच्छर काटने में सक्षम ना हो सके। और पानी कहीं भी जमा ना होने दे। पानी जमा होने से मच्छर की संख्या बहुत ज्यादा बढ़ती है। और कूड़ा - करकट इधर- उधर ना फेकें । अपने आस - पास सफाई करके इससे बचाव किया जा सकता है।

अस्थमा (दमा) के लक्षण कारण और इलाज के बारे में पूरी जानकारी

           दोस्तों आपको ये हमारी पोस्ट कैसी लगी हमें कॉमेंट करके जरूर बताएं ताकि हम आपके लिए अच्छी से अच्छी पोस्ट कर सकें और अगर आप हमारे वेबसाइट पर नए हैं तो सब्सक्राइब कर लीजिए ताकि अगले आने वाली पोस्ट की नोटिफिकेशन सबसे पहले आप तक पहुंचे


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां