What is Bone china . Bone marrow। जिस कप और प्लेट आप घरों में प्रयोग करते हैं मालूम है किस चीज का बना होता है।

What is Bone china। Bone marrow
जिस कप और प्लेट आप घरों में प्रयोग करते हैं मालूम है किस चीज का बना होता है। अक्सर घरों में खाना खाते समय कप या प्लेट हम प्रयोग में लाते है। खाना खाने के बाद हम  प्लेट से कोई मतलब नहीं रखते। बस खाना खाने से मतलब होता है ठीक उसी तरह कप में चाय पीते है लेकिन उससे कोई मतलब नहीं रखते की कप और प्लेट किस चीज का बना होता है। अक्सर ज्यादातर घरों में कप और प्लेट प्रयोग में लाए जाते है। शादी हो, पार्टी हो, खाना खाने के लिए प्लेट का प्रयोग किया जाता है। लेकिन आपको मालूम नहीं होता है की कप और प्लेट किस चीज का बना होता है।


Bone china cups



           लेकिन इसके बारे में जानकर आपके पैरों तले जमीन खिसने लगेगी। क्योंकि ये जिस चीन का बना होता है। उसके बारे में जानकर। जब भी आप कभी कप और प्लेट प्रयोग करें तो उसको पलटकर देखे तो उसमे लिखा रहता है बोन मैरो  या बोन चाइना Bone china ये जो कप और प्लेट बनाया जाता है आपको जानकर ताज्जुब होगा की ये सब पशुओं के हड्डियों से बनाया जाता है। और इसका प्रयोग हम बिना जाने इसका प्रयोग करते है। लेकिन हमको इसे प्रयोग में नहीं लाना चाहिए।


     बोन मैरो Bone marrowकी शुरुआत लंदन में हुई थी। लेकिन इसको बनाने का काम चीन में ज्यादा होती है। पशुओं के हड्डियों को सबसे पहले इकट्ठा करके उबला जाता है ताकि उसमें से मांस और चिपचिपा पन निकल जाए और फिर उसको सुखाकर बारीक पीस जाता है। इसको 1000 डिग्री क तापमान पर गर्म किया जाता है। फिर इसको बनाने के लिए इसमें चीनी मिट्टी और पदार्थ मिलाकर इससे सुन्दर - सुंदर कप और प्लेट तैयार किया जाता है। कुछ कप और प्लेट ज्यादा महंगे होते है जिनमे हड्डी ज्यादा मिलाई जाती है। ये ज्यादातर गाय और बैल की हड्डी से बनाए जाते है।


Bone china plates



        Bone china बोन चाइना को बनाने के लिए हजारों टन हड्डियों की जरूरत पड़ती है जिसे इकट्ठा करना बहुत ही मुश्किल होता है। लेकिन हड्डियों को कसाईखाना और पशुओं को काटने वाले कारखाने से लाया जाता है जो की काफी महंगा होता है। और फिर इसको फैक्ट्रियों में बनाया जाता है। बोन चाइना दुनिया का सबसे बड़ा देश चीन है। जो की सारी दुनिया में बोन चाइना  bone china का निर्यात करता है।


       भारत में भी इसका उत्पादन किया जाता है। बोन चाइना को बनाने के लिए राजस्थान भारत का सबसे बड़ा राज्य माना जाता है। Bone china का उत्पादन राजस्थान प्रतिदिन 16 से 17 टन तक करता है। जो की बहुत है।


Bone marrow



       भाजपा सांसद मेनका गांधी ने बोन चाइना का प्रयोग बंद करने के लिए देश की जनता से अपील किया था। ताकि इसका उपयोग कम हो सके जिससे पशुओं की हत्या को रोका जा सके। आम तौर पर भारत में गौमांस खाने वालों की संख्या बहुत कम मात्रा में है। और गौमांस खाना एक तरीके से पाप माना गया है। 

Dipika Padukone। Dipika Padukon photo


       दोस्तों आज हमने ये आर्टिकल बोन चाइना के बारे में जानकारी देने के लिखा। ये हमारा आर्टिकल किसी भी जाति, धर्म और किसी भी मनुष्य को बरगलाने के लिए नहीं बल्कि जानकारी देने के लिए लिखा गया है।


       दोस्तों आपको ये हमारी पोस्ट कैसी लगी हमें कॉमेंट करके जरूर बताएं ताकि हम आपके लिए अच्छी से अच्छी पोस्ट कर सकें और अगर आप हमारे वेबसाइट पर नए हैं तो सब्सक्राइब करें ताकि अगले आने वाली पोस्ट की नोटिफिकेशन सबसे पहले आप तक पहुंचे
 
        


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां